शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार

Contents hide
1 शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
1.7 शुगर ठीक करने के घरेलू नुस्खे…

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार को जानने से पहले हमें शुगर के बारे में थोड़ी सी जानकारी होना जरूरी है,

  • ताकि हम इसे अच्छी प्रकार से घर पर ही रहकर कंट्रोल कर सके हमारे शरीर में एक हार्मोन होता है जिसे इंसुलिन कहते हैं,
  • जब तक यह हार्मोन सही मात्रा में है बनता है,
  • तब तक मनुष्य का शरीर किसी भी प्रकार के मीठे को बड़ी आसानी से हजम कर लेता है,
  • परंतु किसी भी कारणवश जब इंसुलिन का स्त्राव कम होने लगता है तो हमारे रक्त में जो मीठा होता है,
  • उसका इस्तेमाल हमारे शरीर की कोशिकाएं नहीं कर पाती,
  • जिस कारण उस मीठे का स्तर नॉर्मल से कई गुना ज्यादा रक्त में बढ़ने लगता है,
  • इसी को आम भाषा में शुगर या मधुमेह बोल देते हैं,
  • इसमें प्रमुखता एक बात ध्यान देने वाली है जब तक इंसुलिन हार्मोन सही मात्रा से हमारा शरीर बना रहा है,

तब तक आप जितना मर्जी मीठा खाइए आपको शुगर नहीं होगा,

  • परंतु जब इंसुलिन शरीर में कम बनने लगता है तो ना के बराबर मीठा खाने से भी मीठे का स्तर खून में बढ़ जाता है,
  • इसी स्थिति को शुगर या मधुमेह कहते हैं,

शुगर के प्रकार…

  • यह प्रमुख रूप से दो प्रकार का होता है एक जन्मजात होता है या छोटी उम्र में होता है,
  • जिसमें शरीर में इंसुलिन हार्मोन बिल्कुल ही नहीं बनता या ना के बराबर बनता है इसलिए,
  • ऐसे बच्चों को बचपन से ही इंसुलिन के इंजेक्शन लेने पड़ते हैं इसे हम टाइप वन डायबिटीज भी कहते हैं,
  • दूसरा टाइप टू डायबिटीज है जोकि लगभग 40 या 45 वर्ष के ऊपर की आयु में होता है,
  • और यही सबसे आम मधुमेह या शुगर का प्रकार है जो लगभग 90% से ज्यादा लोगों को प्रभावित करता है,
  • इसी के इलाज की चर्चा पर हम यहां ज्यादा जोर देंगे क्योंकि,
  • इसको कंट्रोल करना मनुष्य के अपने हाथ में है और आप थोडी सी कोशिश करके आसानी से इसे घर पर ही कंट्रोल कर सकते हैं

शुगर या मधुमेह के प्रमुख कारण…

इसके प्रमुख कारण आधुनिक जीवन शैली से जुड़े हैं जैसे कि,

  • व्यायाम न करना,
  • अत्यधिक मीठे पदार्थों का सेवन करना,
  • अत्यधिक चिंता तनाव में रहना,
  • पिज़्ज़ा बर्गर पेस्ट्री इत्यादि पदार्थों का सेवन ज्यादा करना,
  • अपने वजन को कंट्रोल न करना इत्यादि ,

इन सभी कारणों के कारण,

  • हमारे शरीर में इंसुलिन हार्मोन को बनाने वाली ग्रंथि (pancreas)अपने कार्य को करने में गतिशील नहीं रहती,
  • जिस कारण इंसुलिन हार्मोन के उत्पादन में कमी होने लगती है, और इसीलिए शुगर का स्तर रक्त में बढ़ने लगता है,
  • क्योंकि शुगर को शरीर की कोशिकाओं में पहुंचाने का कार्य इंसुलिन हार्मोन ही करता है,

और यदि यह कम होगा तो रक्त शर्करा बढ़ेगी यह बात तो निश्चित है


रक्त शर्करा(blood glucose) का नॉरमल लेवल…
  • सुबह खाली पेट… 60 से 110 mg/dl के बीच, 
  • खाने के 2 घंटे बाद… 100 से 160 mg/dl के बीच होना चाहिए,

शुगर का निदान(Diagnosis)…

HBA 1c…ये ४ से ६ % तक नार्मल माना जाता है,इससे जितना ज्यादा ये होगा आपके लिए शुगर का खतरा बढ़ता जाता है, 

  • शुगर या  मधुमेह का निदान करने के लिए यह जांच आजकल सबसे महत्वपूर्ण है,शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
  • क्योंकि यह जांच में आपके पिछले कम से कम 3 महीने का शुगर कंट्रोल आपके शरीर ने कैसा किया है,
  • इससे यह स्पष्ट हो जाता है इसलिए आपको खाली पेट या खाना खाने के 2 घंटे बाद यह जांच अवश्य करवानी चाहिए,
  • इसके अतिरिक्त आप,

FBS सुबह खाली पेट वाली,

RBS खाना खाने के 2 घंटे बाद वाली,

ब्लड शुगर भी चेक करवा कर आसानी से इसका निदान कर सकते हैं


शुगर या मधुमेह के लक्षण…

इसके लक्षणों में सबसे प्रमुख 3 लक्षण होते हैं,

  • बहुत अत्यधिक पेशाब का आना,
  • बहुत अधिक प्यास का लगना,
  • अत्याधिक भूख का लगना,

इसके अतिरिक्त होने वाली लक्षणों में,

  • बहुत अत्यधिक थकावट का रहना,
  • वजन का कम होना,
  • आंखों की दृष्टि का कम होना,
  • जख्मों का जल्दी ना भरना,
  • बार-बार चमड़ी के ऊपर इन्फेक्शन होना,

जहां आपने पेशाब किया उस स्थान पर अत्यधिक कीड़े कीडियो का आना आदि से आप शुगर या मधुमेह का अंदाजा लगा सकते हैं


शुगर या मधुमेह का इलाज…

  • शुगर या मधुमेह का इलाज इस बात पर निर्भर करता है कि आपका ब्लड ग्लूकोज लेवल कितना रहता है,
  • सामान्यतः 250 से 300 तक ब्लड ग्लूकोस खाली पेट तक रहना इसको आप अपने दिनचर्या में थोड़ा बदलाव कर,
  • तथा खाने पीने में थोड़ा बदलाव कर तथा साथ में कुछ महत्वपूर्ण घरेलू नुस्खों का प्रयोग कर आसानी से कंट्रोल कर सकते हैं,
  • और खास बात यह है कि आप इसे  बिना आधुनिक दवाइयों की मदद से कर सकते हैं,
  • इसके लिए आपको नीचे दिए गए मेरे सुझावों को ध्यान से पढ़ कर अपनी जीवन शैली में अपनाना है जैसे कि…

अत्यधिक मीठे पदार्थों को त्यागना…

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
मीठा ना खायें
  • अब अगर आपको मधुमेह हो ही गया है तो इतना तो आप भी समझते हैं कि,
  • अत्यधिक मीठा खाने से खून में ग्लूकोस का लेवल काफी बढ़ जाता है,
  • इसलिए सबसे पहले आपको मीठी वस्तुएं जैसे कि चीनी, गुड़,शक्कर या इनसे बनने वाले खाद्य पदार्थ,
  • जैसे केक,पेस्ट्री,मिठाई,कोल्ड ड्रिंक इत्यादि पदार्थों का सेवन बिल्कुल बंद कर देना चाहिए,
  • क्योंकि इन पदार्थों में इतना शुगर होता है कि इनका थोड़ा सा भी सेवन करने से,
  • शुगर वाले मरीज़ का ब्लड ग्लूकोस लेवल 400 से 500 mg/dl तक आसानी से पहुंच सकता है,
  • जोकि आपके शरीर के लिए बहुत ज्यादा खतरनाक है,
  • इसके लिए आप प्रकृतिक स्वीटनर जैसे कि स्टीविया या शुगर फ्री टेबलेट का इस्तेमाल अपनी चाय कॉफी में है कर सकते हैं,
  • इनका कोई भी साइड इफेक्ट नहीं होता और इनसे आपकी चाय कॉफी या अन्य खाद्य व्यंजनो का स्वाद भी ठीक हो जाता है
  • शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार में ये करना सबसे जरूरी है ये पहला कदम है 

नित्य सेर या व्यायाम,योगा आदि करना…

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
तेज चलें
  • आपको हर रोज कम से कम आधा से एक घंटा ब्रिस्क वॉक करना चाहिए अर्थात तेज चलकर अपनी सेर करनी चाहिए,
  • यह सबसे महत्वपूर्ण कदम है,क्योकि ऐसा करने से रक्त में जो अत्यधिक ग्लूकोज होता है,
  • उसका इस्तेमाल आपके शरीर की कोशिकाएं करने लगती हैं,
  • जिससे 50 से 100 mg/dl तक की रक्त शर्करा को आप आसानी से कम कर सकते हैं,
  • इसका मतलब है कि यदि आपको खाली पेट शुगर 200 के करीब आती है तो उसे आप अकेले सेर से ही कंट्रोल कर सकते हैं,
  • इसके अलावा आप भिन्न भिन्न प्रकार के योगा व कोई भी हल्के व्यायाम कर सकते हैं,
  • इन सभी से आपका ब्लड ग्लूकोस का स्तर सुधरेगा यह बात निश्चित है,
  • शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार में ये शुगर को ठीक करने का दूसरा प्रमुख कदम है 

मल्टीग्रेन आटे का प्रयोग करना…

  • शुगर या मधुमेह को कंट्रोल करने में मल्टीग्रेन आटे का बहुत अहम रोल है,
  • आप अपने घर में जो कनक से बना आटा प्रयोग करते हैं उसको प्रयोग करना बंद कर दें और इसकी जगह,
  • मल्टीग्रेन आटे का प्रयोग करें यह बाज़ार में बना बनाया भी मिल जाता है और आप इसे आसानी से घर पर भी प्बना सकते हैं,
  • इसके लिए आपको अलग-अलग प्रकार के अनाज जैसे कि जौ,बाजरा,मक्का,चना,ज्वार इत्यादि पदार्थों का प्रयोग कर,
  • इस आटे को बनाना चाहिए,
  • मल्टीग्रेन आटा कनक के आटे की अपेक्षा आपके ब्लड ग्लूकोस को कम करने में अधिक प्रभावी है और यह बात,
  • कई प्रकार की research में साबित भी हो चुकी है,
  • आजकल तो बड़े से बड़े डॉक्टर जैसे डायबिटोलॉजिस्ट भी शुगर के इलाज से पहले मरीज को मल्टीग्रेन आटा यूज करने की सलाह देने लगे हैं,
  • ऐसा मात्र करने से आपका ब्लड ग्लूकोस का स्तर आसानी से 50 से 100 mg/dl तक कम किया जा सकता है,
  • इन तीनों उपायों का प्रयोग कर शुगर का मरीज जिसकी शुगर 300 mg/dl तक रहती है,
  • वह बिना दवाई खाए आसानी से इसे कंट्रोल कर सकता है

इसके अतिरिक्त मैं आपको देसी घरेलू उपाय बता रहा हूं जिससे आपको अपनी शुगर को कंट्रोल करने में बहुत मदद मिलेगी,


शुगर ठीक करने के घरेलू नुस्खे… 

१. मेथी के दानों का प्रयोग…
शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
मेथी दाना
  • मेथी के दाने शुगर को कंट्रोल करने के लिए बहुत ही प्रभावशाली है,
  • आप रात को एक गिलास पानी में एक चम्मच मेथी के दाने भिगो दें और सुबह प्रात काल खाली पेट इस पानी को छानकर पी लें,
  • और मेथी के दानों को हो सके तो धीरे-धीरे चबाकर खा ले,
  • ऐसा लगातार 2 से 3 महीने करें और अगर आपका शुगर ज्यादा रहता है तो आप ही से 6 महीने तक भी कर सकते हैं,

यह नुस्खा आपके शुगर को कंट्रोल करने में काफी मददगार है आयुर्वेद में मेथी को एंटी डायबीटिक फूड मानते हैं


२. मेथी दाना, अजवायन व काली-जीरी से बना बेस्ट घरेलू नुस्खा…

  • इसके लिए आपको 250 ग्राम मेथी दाना(fenugreek) तथा,
  • 100 ग्राम अजवाइन(carom seed)व,
  • 50 ग्राम काली जीरी(purple Flebane)लेनी है,
  • याद रखें काली जीरी ना कि काला जीरा, सबसे पहले इन तीनों चीजों को अलग-अलग कड़ाही में थोड़ा हल्का सा गर्म करना है,
  • उसके बाद इनको अलग-अलग ग्राइंड करके इनका पाउडर बना लेना है,
  • फिर तीनों को अच्छी प्रकार से छननी से छान कर मिक्स कर एक पाउडर तैयार कर लेना है,
  • और उसको एयर टाइट कंटेनर में रखना है यह एक बहुत ही असरदार शुगर की घरेलू दवाई है,
  • इसका सेवन आप रात को खाना खाने के 1 घंटे बाद गुनगुने पानी के साथ 5 से 7 ग्राम की मात्रा में,

लगातार 3 से 6 महीने तक आसानी से कर सकते हैं ऐसा करने से आपको अपनी शुगर कंट्रोल करने में बहुत मदद मिलेगी,

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार में इसे जरूर आजमायें इससे बहुत फायदा होता है 


३. इन्द्रजौ, कड़वा-बादाम व भूने काले चने से बना बेस्ट घरेलू नुस्खा…

इन्द्रजो व कडवा बादाम
  • इसके लिए आपको ऊपर लिखी तीनों चीजें इन्द्रजौ(bitter-oleanderया Wrightia tinctoria),
  • भूने काले चने(Roasted chickpeas)व

    शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
    काले भुने चने

  •  कड़वा-बादाम(Almonds)सौ-सौ ग्राम की मात्रा में लेकर उनको ग्राइंडर में अच्छी प्रकार से ग्राइंड कर पाउडर बना लेना है,
  • और उस पाउडर को किसी कांच के बर्तन में सुरक्षित रख लेना है,
  • तथा इसको पांच- 5 ग्राम की मात्रा यानी एक-एक चम्मच सुबह शाम गुनगुने पानी के साथ,
  • खाना खाने के कम से कम एक घंटा बाद लेना है यह घरेलू नुस्खा शुगर को कंट्रोल करने के लिए बहुत ही असरदार है,

आप बेफिक्र होकर इसको घर पर ट्राई कर सकते हैं


४. एलोवेरा जूस का प्रयोग…

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
ग्वारपाठा जूस
  • एलोवेरा या ग्वारपाठा में शुगर को कंट्रोल करने करने की बहुत शक्ति होती है इसके लिए,
  • आप बहुत ही बढ़िया कंपनी का एलोवेरा जूस लें और उसे,
  • प्रात काल खाली पेट 30 से 50 ml की मात्रा में कांच के गिलास में डालकर थोड़ा सा उसमें गुनगुना पानी डालकर,
  • 3 से 6 महीने तक लगातार इसका सेवन करें, ऐसा करने से आपका शुगर कंट्रोल हो जाएगा,
  • कई बार तो हमने अपने पेशेंट्स में देखा है कि जो पेशेंट्स लंबे समय से अंग्रेजी दवाइयां खा रहे थे,
  • उनकी सारी दवाइयां बंद हो गई तथा वे प्राकृतिक रूप से शुगर से मुक्त हो गए,
  • पर याद रखें ग्वारपाठा या एलोवेरा आपको अच्छी ब्रांडेड कंपनी का ही इस्तेमाल करना होगा,

जैसे कि फॉरएवर या आईएमसी कंपनी इत्यादि का आम लोकल मेड एलोवीरा कोई ज्यादा फायदा नहीं करता,

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार में इसका भी अहम् रोल है 


५. जामुन की गुठली का चूर्ण…

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
जामुन गुठली का चूर्ण
  • जामुन को आयुर्वेद में anti-diabetic फूड मानते हैं,
  • इसलिए शुगर के मरीज जामुन का इस्तेमाल बेफिक्र होकर कर सकते हैं, तथा इसकी गुठलियों को छाया में सुखाकर,
  • उनका चूर्ण बनाकर प्रातः काल दो से 3 ग्राम की मात्रा में गर्म पानी के साथ सेवन कर सकते हैं,

इससे भी शुगर को कंट्रोल करने में मदद मिलेगी


६. करेले का जूस… 

  • करेले के जूस में शुगर को कंट्रोल करने की बहुत ही अधिक पावर होती है बस यह पीने में बहुत कड़वा होता है,
  • अगर कोई शुगर वाला व्यक्ति करेले के जूस का सेवन करता है तो,
  • निश्चित रूप से उसकी शुगर बिना दवाई के कंट्रोल हो जाती है,
  • इसके लिए आपको सुबह खाली पेट मिक्सर ग्राइंडर की सहायता से,
  • करेले का जूस निकालकर 50 से 70 ml की मात्रा में सेवन करना चाहिए ऐसा करने से कुछ दिनों में ही,
  • आपका ब्लड ग्लूकोस लेवल सामान्य हो जाता है बस आपको एक बात याद रखनी है कि,
  • गर्भवती स्त्रियां इसका सेवन नहीं करें व दूसरा,

आपको हमेशा ताजे करेले का ही इस्तेमाल करना है बाजार से बना बनाया करेले का जूस का सेवन कोई लाभ नहीं देता


७. आंवले के जूस का सेवन…

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
आवला जूस
  • आंवले का ताजा जूस मधुमेह को कंट्रोल करने के लिए आयुर्वेद में हजारों सालों से इस्तिमाल किया जा रहा है,
  • आपको सुबह खाली पेट 30 से 50 ml की मात्रा में इससे पीना चाहिए,
  • आप लंबे समय तक इसका इस्तेमाल कर सकते हैं पर याद रखें,
  • आपको ताजा आवले खरीद कर खुद से जूस तैयार करना होगा क्योंकि,
  • मार्केट से बना बनाया आंवले का जूस कोई ज्यादा फायदा नहीं करता क्योंकि,
  • कंपनियां उसे स्वादिष्ट बनाने के लिए अनेक प्रकार के हानिकारक पदार्थों को आंवले के जूस में मिला देती हैं,

इसलिए ताजा आवले का जूस ही सही लाभ देता है


८. दालचीनी के काढ़े का सेवन…

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
दालचीनी
  • इसके लिए आपको दालचीनी का पाउडर लेना होगा और,
  • 5 से 7 ग्राम की मात्रा में एक गिलास पानी में डालकर हल्की आंच पर उसे गर्म करें और,
  • जब यह पानी तीसरा हिस्सा रह जाए तो उसे छानकर सुबह खाली पेट पिए,
  • ऐसा करने से आपको शुगर को कंट्रोल करने में काफी मदद मिलेगी,

आयुर्वेद में दालचीनी का शुगर के साथ-साथ अन्य प्रकार की बीमारियों में हजारों सालों से इस्तेमाल होता आ रहा है


९. विजयसार की छाल का प्रयोग…Pterocarpus marsupium(Indian Kino Tree)

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
vijaysaar
  • विजयसार एक प्रकार का पेड़ होता है तथा इसकी छाल का प्रयोग आयुर्वेद में,
  • शुगर के साथ-साथ अन्य प्रकार की बीमारियों में भी किया जाता है,
  • विजयसार की छाल का चूर्ण 5 से 7 ग्राम की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ दिन में एक बार प्रातः काल खाली पेट सेवन करने से,
  • शुगर को कंट्रोल करने में बहुत मदद मिलती है,
  • इसके साथ-साथ यह है अतिरिक्त वसा को शरीर से बाहर निकालता है,
  • तथा इंसुलिन हार्मोन के स्राव को भी बढ़ाता है और साथ में लिपिड्स लेवल को भी ठीक रखता है,

विजयसार की छाल का चूर्ण आप अच्छे पंसारी से या ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं


१०. त्रिफला चूर्ण का शुगर में प्रयोग...

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
त्रिफला चूर्ण
  • शुगर को कंट्रोल करने के लिए आप त्रिफला चूर्ण 5 से 7 ग्राम की मात्रा में दिन में एक बार ले सकते हैं,
  • आप इसे सुबह खाली पेट भी ले सकते हैं या शाम को खाना खाने के 1 घंटे बाद भी ले सकते हैं,
  • त्रिफला में हरड़ बहेड़ा व आमला होता है जिसका कि,

आयुर्वेद में शुगर के साथ-साथ अन्य बीमारियों को ठीक करने के लिए हजारों सालों से उपयोग होता रहा है


गुड़मारGymnema Sylvestre)करता है शुगर कंट्रोल…
शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
गुडमार
  • यह भी एक आयुर्वेदिक सुप्रसिद्ध जड़ी बूटी है जिसका वर्षों से इस्तेमाल मधुमेह के रोगियों में किया जाता है,
  • गुड़मार का चूर्ण मार्केट से या ऑनलाइन भी मिल जाता है,
  • आप इसके चूर्ण से काढ़ा बनाकर सुबह खाली पेट इसका सेवन कर अपने शुगर के स्तर को कंट्रोल कर सकते हैं,

गुडमार इंसुलिन के स्तर को बढ़ाता है तथा मेटाबॉलिज्म को भी तेज करता है


नीम की पत्तियों से करें शुगर कंट्रोल…

  • सुबह खाली पेट 5 से 7 नीम की कोमल हरी पत्तियां चबाकर खाने से शुगर कंट्रोल करने में मदद मिलती है,
  • बस यह कड़वा होने के कारण खाना थोड़ा मुश्किल है,
  • लेकिन अगर कोई इसका सेवन लगातार करता है तो उसे,

शुगर के साथ-साथ अन्य प्रकार के चर्म रोगों से भी  आराम मिलता है


बेलपत्र करे शुगर कंट्रोल…

  • शुगर को कंट्रोल करने के लिए बेल के कुछ पत्ते लेकर उनका रस निकाल ले,
  • फिर उसमें एक चुटकी काली मिर्च तथा नमक डालकर लगभग 25 ml की मात्रा में,

सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से शुगर कंट्रोल करने में काफी मदद मिलती है


सदाबहार की पत्तियां करें शुगर कण्ट्रोल…
  • सदाबहार एक आम पौधा है,
  • जिसकी पांच से सात पत्तियां रोजाना चबाकर खाने से शुगर कंट्रोल करने में मदद मिलती है,

यह पत्तियां आपको अच्छी प्रकार से धोकर इस्तेमाल करनी चाहिए और इसका सेवन भी आपको सुबह खाली पेट करना चाहिए

प्रसिद आयुर्वेदिक दवाएं शुगर के लिए…
  • वसन्त कुसुमाकर रस 
  • चन्द्र-प्रभा वटी
  • शिवागुटिका 
  • मधु-मेहनाशिनी गुटिका 
  • मधुमेहदर्पहारी वटी
  • शुद्ध शिलाजीत 
  • गिलोय चूर्ण 
  • आरोग्य-वर्ध्नी वटी
  • गिलोय सत्व 
  • त्रिवंग भसम आदि,इनका सही से इस्तेमाल आयुर्वेदिक डाक्टर की सलाह से ही किया जा सकता है,

क्योंकि आयुर्वेद में प्रकृति के आधार पर सही से दोषों को समझ कर,

आहार-विहार का ठीक से पालन कर रोगी को रोग मुक्त किया जाता है 


शिलाजीत करे शुगर कंट्रोल…

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
शिलाजीत
  • शुगर को कंट्रोल करने के लिए शिलाजीत का प्रयोग भी किया जा सकता है आप,
  • किसी भी अच्छी कंपनी का ब्रांडेड शिलाजीत ले सकते हैं और,
  • रोजाना थोड़े से गर्म दूध में एक से दो बूंद शिलाजीत डालकर इसका सेवन कर सकते है,

शिलाजीत शुगर से आने वाली शारीरिक व सेक्स कमजोरी को भी ठीक करता है


शुगर में प्रयोग होने वाली एलोपैथिक दवाएं…
  • यहां पर एलोपैथिक या आधुनिक चिकित्सा विज्ञान में शुगर के इलाज में प्रयोग होने वाली कुछ दवाओं का नाम मैं बता रहा हूं,
  • अगर जरूरत पड़े तो आप अपने डॉक्टर की सलाह से इनका इस्तेमाल अपने शुगर रोग में कर सकते हैं,
  • कृपया स्वयं से इन दवाओं का उपयोग ना करें
  1. Glimestar-1/2/3/4…(Glimepiride 1mg/ 2mg/3mg/4mg)
  2. Glimestar-M-1/2…(Glimepiride 1mg/2mg+Metformin 500mg)
  3. Glimestar-PM-1/2…(Glimepiride1mg/2mg+Pioglitazone 15mg+Metformin500mg)
  4. Glykind-M…(Gliclazide 80mg+Metformin 500mg)

ध्यान दे….बिना डाक्टरी सलाह इन दवायों का इस्तेमाल बिलकुल भी ना करें


शुगर के इलाज़ इन होमियोपैथी…

शुगर के होम्योपैथिक उपचार में लक्षणों के आधार पर प्रत्येक मरीज को अलग-अलग प्रकार के दवाइयां दी जाती हैं,

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार
S.J.Q.होम्योपैथिक दवा शुगर के लिए

पर कुछ महत्वपूर्ण दवाएं जिनका इस्तेमाल लगभग सभी होम्योपैथिक डॉक्टर करते हैं वह इस प्रकार हैं..

  • 1.Syzygium Jambolanum Q…इसके मदर tincture का इस्तेमाल शुगर के रोगियों में किया जाता है
  • व इसके रिजल्ट्स काफी बढ़िया है 
  • 2.Acid Phos Q….इसके व उपर लिखी SJQ के मदर tincture दोनों को मिक्स कर,
  • 25-25 बूँद गुनगुने पानी में डालकर दिन में तीन बार खाना खाने से आधा घंटा पहले लेने से,
  • शुगर को कण्ट्रोल करने में काफी मदद मिलती है व इसके साथ में आप 
  • ३.Uranium Nitricum 30 पोटेंसी वाली ये दवा भी यूज़ कर ओर भी लाभ ले सकते है

अगर आप सही से होम्योपैथिक उपचार शुगर का करवाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको होम्योपैथिक विशेषज्ञ से कंसल्ट करना होगा


शुगर की जटिलताएं(Complications of Diabetes)…
  • अगर आप अपना ब्लड शुगर लेवल सही से कंट्रोल नहीं करते तो,
  • यह बीमारी भविष्य में आपके लिए बहुत ही खतरनाक सिद्ध होती है,

इसकी अनेक प्रकार की जटिलताएं शरीर में उत्पन्न हो जाती हैं,जैसे कि…

  • DIABETIC RETINOPATHY…मतलब आंखो में डैमेज होना 
  • NEPHROPATHY…शुगर से गुर्दे खराब होना 
  • D.ENCEPHALOPATHY…दिमाग में डैमेज होना 
  • DIABETIC NEUROPATHY…मतलब तंत्रिका तंत्र में डैमेज होना 
  • DIABETES FOOT ULCER…पैरों में डैमेज होना
  • HEART PROBLEMS…दिल की बीमारियाँ 
  • SKIN PROBLEMS…चमड़ी का डैमेज होना इतियादी 
  • DIABETIC KETOACIDOSIS…शुगर का अटैक होना बहुत ही खतरनाक स्थिति है,इसमें मृत्यु तक हो सकती है  

जिनका इलाज करना लगभग असंभव हो जाता है इसलिए आपको अपनी शुगर को बड़े ही ध्यान से कंट्रोल करना चाहिए,

  • व अगर आपसे सारे घरेलू उपाय अपनाने के बावजूद भी शुगर सही से कंट्रोल नहीं हो पा रहा तो,
  • आपको शुगर के विशेषज्ञ डॉक्टर से मशवरा कर इसका सही से इलाज करवाना चाहिए,

आप हमसे भी ऑनलाइन कंसल्ट कर शुगर को सही से मैनेज कर सकते है,

शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार का पूरा वर्णन मैंने कर दिया है कृपया इसे ध्यान से पढ़कर इसका लाभ ले| 


अस्वीकरण(disclaimer)…
  •  इस लेख की सामग्री व्यावसायिक चिकित्सा सलाह(professional medical advice), निदान(diagnosis) या उपचार(ट्रीटमेंट) के विकल्प के रूप में नहीं है।
  • चिकित्सीय स्थिति के बारे में किसी भी प्रश्न के लिए हमेशा चिकित्सीय(doctor कंसल्टेशन) सलाह लें।
  • उचित चिकित्सा पर्यवेक्षण(without proper medical supervision) के बिना अपने आप को, अपने बच्चे को, या किसी और का  इलाज करने का प्रयास न करें।

image creditधन्यवाद to www.pixabay.com

अधिक अपडेट के लिए कृपया hindi.curetoall.com पर जाएं और नीचे दिए गए लेखों को भी पढ़ें:


 

1 thought on “शुगर के कारण,लक्षण व सभी उपचार”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
hello
%d bloggers like this: