acne in hindi

acne in hindi- वयस्को में होने वाली मुँहासों से कैसे पाए छुटकारा

acne in hindi-एक परिपक्व व्यक्ति के रूप में, हर कोई सोचता है कि मुंहासे बीते समय की बात है। लेकिन कई परिपक्व व्यक्तियों के लिए मुहांसे, दाग व धब्बे स्वस्थ त्वचा को ख़राब करते रहते हैं।

कुछ व्यक्तियों के लिए, उनकी किशोरावस्था की तुलना में वयस्कता में पिंपल्स और भी अधिक प्रमुख हो सकते हैं। वास्तव में, यह ध्यान दिया गया है कि 25 से 45 वर्ष की आयु के पांच में से एक परिपक्व व्यक्ति को अधिक मुंहासे की समस्या का अनुभव होता है।

यह एक साधारण कॉस्मेटिक त्वचा की समस्या से कहीं अधिक है, यह आपके जीवन की गुणवत्ता को भी प्रभावित करता है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपकी उम्र या स्थिति की गंभीरता क्या है।

यदि कोई व्यक्ति बार-बार होने वाली त्वचा की समस्याओं से जूझ रहा है, तो मुंहासों का इलाज करने का तरीका खोजने से आपके शरीर की छवि और आत्म-सम्मान में सुधार हो सकता है।
वयस्क मुँहासे के कई कारण होते हैं, और इसके कारण, इसे नियंत्रित करने या इससे बचने के लिए कोई निश्चित उपचार नहीं है।
कई कारक मुँहाँसो की समस्याओं को प्रभावित करते हैं, जिनमें से कई हमारे नियंत्रण से बाहर हैं लेकिन आपकी त्वचा की समस्या का इलाज करने का आपका तरीका एक बड़ी भूमिका निभाता है।

आपके छोटे-छोटे प्रयास केवल कुछ छोटे व्यवहारों को बदलकर आपके चेहरे, कंधों, गर्दन, पीठ, छाती, अन्य अंगों या कहीं भी कभी-कभार होने वाले पिंपल्स को नियंत्रित या संभावित रूप से दूर कर सकते हैं।


1. अपनी त्वचा और बालों के उत्पादों की जांच अवश्य करें…

हर किसी को अपने सौंदर्य प्रसाधन, हेयर कंडीशनर, सनस्क्रीन, जैल, शेविंग उत्पाद, मॉइस्चराइज़र और अन्य उत्पादों की जांच करनी चाहिए जिनमें तेल होता है जो त्वचा के छिद्रों को अवरुद्ध कर सकता है और मुंहासे की समस्या पैदा कर सकता है।
आप बस त्वचा और बालों के उत्पादों पर स्विच कर सकते हैं जो त्वचा के छिद्रों को अवरुद्ध या बंद नहीं करते हैं – जिन्हें “गैर-कॉमेडोजेनिक”(non-comedogenic) भी कहा जाता है – जो त्वचा की उपस्थिति में बहुत बड़ा अंतर ला सकते हैं।

  • आपकी त्वचा और बालों के उत्पादों पर लेबल की जाँच की जानी चाहिए ताकि वे गैर-कॉमेडोजेनिक और तेल मुक्त हों।
  • यह भी नोट किया जाना चाहिए कि क्या किसी व्यक्ति को वास्तव में उनके द्वारा उपयोग किए जाने वाले प्रत्येक उत्पाद की आवश्यकता है है या नहीं।
  • यहां तक ​​कि “डर्मेटोलॉजिकली टेस्टेड” लेबल वाले त्वचा उत्पाद भी कुछ व्यक्तियों में पिंपल्स या मुहांसों  का कारण बन सकते हैं।

आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले उत्पादों की विविधता को सीमित करने से त्वचा के पिम्पल्स को और कम करने में मदद मिलेगी।
और एक्सरसाइज के समय आपको जितना हो सके कम से कम मेकअप लगाना चाहिए।
यहां तक ​​​​कि गैर-कॉमेडोजेनिक और तेल मुक्त सौंदर्य प्रसाधन उत्पाद पसीने और भारी व्यायाम के दौरान त्वचा के छिद्रों को अवरुद्ध कर सकते हैं।

वयस्को में होने वाली मुँहासों से कैसे पाए छुटकाराको आगे पढ़े…


2. सख्त हैंड्स-ऑफ नीति को अपनाना…

क्या आप बार-बार अपने गाल या ठुड्डी को अपने हाथों पे रखते हैं या अपनी नाक को थपथपाते हैं?
ये चीजें बैक्टीरिया के विकास की संभावना को बढ़ा सकती हैं और उन क्षेत्रों में त्वचा के संक्रमण का कारण बन सकती हैं जो वयस्क पिंपल्स या मुंहासों से सबसे अधिक प्रभावित होते हैं।

त्वचा की स्मसायों की रोकथाम के लिए हर किसी को एक सख्त हाथ-बंद नीति अपनानी चाहिए।

निचोड़ने या ज्यादा छुहने से मुंहासो के बैक्टीरिया त्वचा की गहरी परतों की ओर जा सकते हैं, जिससे त्वचा पर अधिक सूजन और संभवतः स्थायी निशान पड़ सकते हैं।
इसलिए हर किसी को कोशिश करनी चाहिए कि बार-बार त्वचा को छूने के प्रलोभन को नजरअंदाज करें।

मुहांसों से सम्बंधित पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए आर्टिकल को विस्तार से पढ़े…

“मुहासों का इलाज़ कारण व लक्षण “


3. चेहरे पर आये पसीने को धोना (acne in hindi)…

भारी या मध्यम कसरत करने के बाद हर किसी को अपना चेहरा जल्द से जल्द धोना चाहिए।
शरीर की शारीरिक गतिविधि शरीर में बहुत अधिक गर्मी पैदा करती है, जिससे पसीना त्वचा की सतह पर मौजूद त्वचा के तेल के साथ मिल जाता है।
वे त्वचा के छिद्रों में अन्य गंदगी को भी फँसा सकते हैं।

यदि चेहरा या शरीर को धोना जल्दी संभव नहीं है, तो आप जितनी जल्दी हो सके सूखे कपड़ों से तौलिया कर चेहरा साफ़ कर सकते हैं।

  • टाइट-फिटेड पसीने वाले कपड़ों में बैठने से आपकी पीठ, छाती और शरीर के अन्य हिस्सों पर मुंहासे होने की संभावना हो सकती है।
  • हर किसी को अपनी त्वचा में जलन पैदा करने वाली टोपी या टाइट हेडबैंड पहनने से भी बचना चाहिए।

यदि कोई हेलमेट या कोई अन्य सुरक्षा उपकरण पट्टियों के साथ पहनता है, तो जीवाणुओं के विकास की संभावना को कम करने के लिए पट्टियों को नियमित रूप से धोना सुनिश्चित करें।


4. हमेशा कठोर स्क्रबिंग और ओवरवॉशिंग से बचें…

वयस्क पिंपल्स धूल के कारण नहीं होते हैं, इसलिए मजबूत कठोर रसायनों जैसे उत्पादों विशेष रूप से अल्कोहल-आधारित (alcohol-based) उत्पादों के साथ बार-बार चेहरे या अन्य अंगो को धोने से समस्या का समाधान नहीं होता है।
इसके विपरीत, यह अत्यधिक तेल उत्पादन और अधिक मुँहासे को ट्रिगर करके स्थिति को और खराब कर सकता है।

  • हर किसी को अपनी त्वचा को जबड़े के नीचे से लेकर बालों की रेखा तक दिन में एक या दो बार माइल्ड क्लींजर से धोना चाहिए।
  • आपको कपडे की बजाय गुनगुने पानी और साफ हाथों का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • त्वचा को सूजन या जलन से बचाने के लिए, आपको त्वचा को मुलायम तौलिये से रगड़ने के बजाय थपथपाकर सुखाना चाहिए।

मुँहासे-प्रवण त्वचा के लिए चिह्नित सफाई उत्पादों(cleansing products that are marked for acne-prone skin) का उपयोग करते समय सभी को सावधान रहना चाहिए, क्योंकि इससे स्वस्थ त्वचा और अधिक शुष्क हो सकती है।

“वयस्को में होने वाली मुँहासों से कैसे पाए छुटकारा” आगे बढ़ें…


5. तनाव के स्तर को नियंत्रित करें (acne in hindi)…

जब कोई तनाव की स्थिति में होता है तो उसका शरीर कोर्टिसोल (एक प्रकार का तनाव हार्मोन) नामक हार्मोन का उत्पादन करता है, जो त्वचा में मौजूद वसामय ग्रंथियों से तेल के उत्पादन को बढ़ा देता है।

जब यह अतिरिक्त तेल बैक्टीरिया और मृत त्वचा कोशिकाओं के साथ मिल जाता है, तो इससे मुंहासे हो सकते हैं या मुंहासे ओर भी बढ़ सकते हैं जो पहले से मौजूद हैं।

अगर कोई लगातार चिंता या तनाव से पीड़ित है, तो उसे गहरी सांस लेने का अभ्यास करने के लिए दिन भर में छोटे ब्रेक लेने की जरूरत है।
नियमित रूप से व्यायाम करना तनाव और चिंता को कम करने का एक और शानदार तरीका है।


निष्कर्ष (acne in hindi)…

पिंपल्स या मुंहासों का कोई स्थायी या पक्का इलाज नहीं है, ज्यादातर हल्के मुंहासों की समस्याओं को उचित शरीर और त्वचा की देखभाल से नियंत्रित किया जा सकता है।
यहां बताई गई बुनियादी तकनीकों पर सभी को ध्यान अवश्य ही देना चाहिए। हमेशा याद रखें कि स्किनकेयर में सादगी सबसे अच्छा उपाय है।
आप इन स्वस्थ आदतों को एक या दो महीने के लिए लागू करें, और उसके बाद, यदि आपको अभी भी कोई उचित परिणाम नहीं मिलता है, तो अन्य कारणों से मुंहासे होने की संभावना होती है जैसे कि…

  • कुछ दवाओं के साइड इफेक्ट।
  • हार्मोनल परिवर्तन (जैसे, गर्भावस्था, मासिक धर्म चक्र या जन्म नियंत्रण की गोलियाँ शुरू करना या रोकना)।
  • कुछ सौंदर्य प्रसाधनों या खाद्य पदार्थों से एलर्जी की प्रतिक्रिया।
  • आनुवंशिक कारण।

आपको अपने त्वचा विशेषज्ञ डॉक्टर से अपने संभावित वयस्क-मुँहासे के कारणों के साथ-साथ सर्वोत्तम उपचार विकल्पों के बारे में बात करनी चाहिए।


अस्वीकरण (acne in hindi)… 

  • इस लेख की सामग्री व्यावसायिक चिकित्सा सलाह(professional medical advice), निदान(diagnosis) या उपचार(ट्रीटमेंट) के विकल्प के रूप में नहीं है।
  • चिकित्सीय स्थिति के बारे में किसी भी प्रश्न के लिए हमेशा चिकित्सीय(doctor कंसल्टेशन) सलाह लें।
  • उचित चिकित्सा पर्यवेक्षण(without proper medical supervision) के बिना अपने आप को, अपने बच्चे को, या किसी और का  इलाज करने का प्रयास न करें।

Image-creditधन्यवाद to www.pixabay.com

  • वयस्को में होने वाली मुँहासों से कैसे पाए छुटकारा के लेखक: डॉ. वी .के. गोयल आयुर्वेदाचार्य B.A.M.S. M.D.(AM)
  • [email protected]
  • CONTACT US for consultation
    मुहासों का इलाज़ कारण व लक्षण
    लेखक

     

अधिक अपडेट के लिए कृपया hindi.curetoall.com पर जाएं और नीचे दिए गए लेखों को भी पढ़ें:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

hello
%d bloggers like this: