मर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा

मर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा- Best Aphrodisiac Medicines in Ayurveda

मर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा: वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद में मर्दाना कमजोरी को दूर करने के लिए सुप्रसिद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां जैसे अश्वगंधा, सालम पंजा, सालम मिश्री, बीज विधारा, क्रौंच बीज इत्यादि मौजूद है 

इन जड़ी बूटियों का इस्तेमाल अकेले या शास्त्रीय योग के रूप में अनेक प्रकार की सेक्सुअल समस्याएं जैसे स्वपनदोष, इंद्री का ढीलापन, शीघ्रपतन, वीर्य प्रमेह तथा अनन्या प्रकार की मर्दाना कमजोरी को दूर करने के लिए हजारों वर्षों से सफलतापूर्वक होता आ रहा है

  • इनकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इनका किसी भी प्रकार का कोई खास दुष्प्रभाव शरीर पर नहीं होता, इसलिए मर्दाना कमजोरी के इलाज में इनका प्रयोग एक वरदान के बराबर है इन औषधियों को आयुर्वेद में वाजीकरण की संज्ञा भी दी गई है

मैंने इस आर्टिकल में मर्दाना कमजोरी को दूर करने में सहायक आयुर्वेदिक औषधियों का वर्णन नीचे किया है तथा साथ में कुछ औषधियों का एफिलिएट लिंक भी आपके साथ शेयर कर रहा हूं ताकि कोई भी व्यक्ति इनमें से किसी भी दवा को आसानी से ऑनलाइन खरीद सके


मर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा तथा सेवन विधि

1.बृहत् कामचुडामणि रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
2.वसन्त कुसमाकर रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
3.शुक्रसंजीवन रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
4.शुक्रवल्लभ रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
5.मकरध्वज रसायन1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
6.मदनमंजरी वटी1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
7.पूर्णचन्द्रोदय रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
8.वृहत बंगेश्वर रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
9.वृहत पूर्णचन्द्र रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
10.पुष्पधन्वा रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
11.मन्मथ रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
12. मकरध्वज बटी1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
13.नवजीवन रस1-2 गोली सुबह-शाम दूध के साथ।
14.अश्वगंधादि चूर्ण1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ। 
15.शतावर्यादि चूर्ण1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
16.गोक्षुरादि चूर्ण1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
17.कामदेव चूर्ण1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
18. मूसल्यादि चूर्ण1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
19.रतिवल्लभ चूर्ण1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
20.रसायन चूर्ण1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।

मर्दाना कमजोरी

नोट- 1 चम्मच = 5 ग्रामस लगभग

21.मूसली पाक1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
22.कौंच पाक1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
23.अश्वगंधा पाक1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
24. बादाम पाक1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
25.गोखरू पाक1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
26. ब्रह्म रसायन1-1 चम्मच 2 बार दूध के साथ।
27.अश्वगंधारिष्ट4-4 चम्मच भोजनोत्तर जल मिलाकर।
28.बलारिष्ट4-4 चम्मच भोजनोत्तर जल मिलाकर।
29.द्राक्षासव 4-4 चम्मच भोजनोत्तर जल मिलाकर।
30.कामदेव घृत 1-1 चम्मच सुबह-शाम दूध के साथ।
31.अश्वगंधा घृत1-1 चम्मच सुबह-शाम दूध के साथ।
32.फल घृत1-1 चम्मच सुबह-शाम दूध के साथ।
33.मदनानन्द मोदक1-1 रात में सोते समय दूध के साथ।
34.कामेश्वर मोदक1-1 रात में सोते समय दूध के साथ।
35.चन्द्रप्रभा बटी 2-2 गोली 3 बार दूध के साथ।
36.श्री गोपाल तेल सुबह-शाम लिंग पर मालिश करें।
37. अश्वगंधा तेलसुबह-शाम लिंग पर मालिश करें।

मर्दाना कमजोरी के प्रमुख आयुर्वेदिक शास्त्रीय व् पेटेंट सप्लीमेंट्स  

Dabur ब्रह्म रसायनमर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा


अश्वगंधा पाक हर्बल ग्रेन्युलमर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा


मुस्ली पाकमर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा


Siddhayu Gokshura Tabletमर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा


बृहत् कामचुडामणि रसमर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा


HXN स्ट्रेंथ बूस्टरमर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवाविज्ञान द्वारा समर्थित पारंपरिक ज्ञान- हजारों वर्षों से आयुर्वेद ने गोक्षुर को रोग प्रतिरक्षा बढ़ाने, कामोद्दीपक, मर्दाना ताकत बढ़ाने वाली तथा कायाकल्प जड़ी बूटी के रूप में उपयोग किया है।


Himalaya टेनटेक्स फोर्टे टेबलेट्समर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा

Himalaya drug company द्वारा बनाई हुई 

  • पुरुषों में मर्दाना कमज़ोरी के लिए बेस्ट वाजीकार इलाज़
  • चार से छे हफ्तों तक 2 गोलियाँ दिन में दो बार तथा उसके बाद 1 गोली दिन में दो बार की कम ख़ुराक या चिकत्सिक के निर्देश अनुसार् दी जानी चाहिए

इसे भी पढ़ेंashwagandha benefits in hindi”


मर्दाना कमजोरी दूर करने की आयुर्वेदिक भस्में

हिंगुल भस्म 

शुद्ध शिंगरफ (हिंगुल) 25 ग्राम को 120 ग्राम आक के दूध में इतना खरल करें कि दूध शुष्क हो जाये। तब उसकी एक टिकिया बना लें और 60 ग्राम नील के पौधे के पत्तों (वस्मा) को बारीक पीसकर आक के दूध में गूंधकर उसके अन्दर टिकिया रखकर गोला बना लें।मर्दाना कमजोरी दूर करने की आयुर्वेदिक भस्मेंफिर गोले को 250 ग्राम कच्चे धागे में लपेटें। तत्पश्चात् तिलों का तेल 250 ग्राम, शहद 250 ग्राम, गाय का घी 250 ग्राम सबको मिलाकर साफ कढ़ाई में डाल दे। इस गोले को लोहे की तार में बाँधकर कढाई के बीच में इस प्रकार लटकायें कि गोला मधु आदि की अन्दर डूबा रहे। कढ़ाई के नीचे आग जलायें। आग इतनी तेज कर दें कि कढ़ाई में आग लग जाये। जब सब कछ जल जाये तो शिंगरफ की टिकिया सावधानी से निकाल लें। यह बढ़िया शिंगरफ भस्म है।

मात्रा 10 से 40 मि.ग्रा. तक मलाई या मक्खन में मिलाकर खिलायें।

यह भस्म असीम मर्दाना शक्ति उत्पन्न करती है। यहाँ तक कि जन्मजात नपुंसकता के अतिरिक्त हर प्रकार के नपुंसकों के लिये रामबाण है। जिन व्यक्तियों ने बचपन और जवानी के कुकर्मों से अपने आपको बर्बाद कर लिया हो उनके लिये यह भस्म अमृत समान है।

नवयुवकों और गर्म स्वभाव के व्यक्तियों को यह दवा प्रयोग न करायें तो अच्छा है। यदि करानी हो तो बहुत सावधानी से सर्दी में ही प्रयोग करायें। प्रयोगकाल में घी, दूध और मक्खन बहुत अधिक खिलायें।

also read “मर्दाना कमजोरी दूर करने की होम्योपैथिक दवाएं” 


निष्कर्ष 

सेक्सुअल प्रॉब्लम्स तथा यौनशक्ति या मर्दाना कमजोरी को दूर करने के लिए आयुर्वेद में अनेकों औषधियां है परंतु इन औषधियों का सही लाभ लेने के लिए पीड़ित व्यक्ति को आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह मशवरा कर इनका सेवन करना जरूरी है अन्यथा जिस लाभ के लिए आप यह औषधियां प्रयोग कर रहे हैं उनसे वंचित रहने की संभावना हमेशा बनी रहती है

ऐसा इसलिए है क्योंकि आयुर्वेदिक चिकित्सक रोगी की प्रकृति, सत्व व् समस्या का सही निदान करने के बाद ही सही औषध का निर्धारण कर आपकी समस्या का उपचार करता है आपके शरीर में दोषों का सही अवलोकन करने के बाद ही इन औषधियों का सही लाभ प्राप्त होता है अन्यथा नहीं, इसलिए कृपया इन औषधियों का सेवन करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह मशवरा जरूर करें

  • दूसरी जरूरी बात यह है कि इन आयुर्वेदिक दवाइयों के सेवन के दौरान स्वस्थ जीवन शैली को अपनाना, शराब, धूम्रपान या अन्य व्यसनों से दूर रहना, सात्विक आहार का सेवन करना तथा चिकित्सक के बताए अनुसार परहेज करना भी बहुत जरूरी है

मैंने इस आर्टिकल में आयुर्वेद में वर्णित मर्दाना कमजोरी के उपचार के लिए इस्तेमाल की जाने वाली प्रमुख आयुर्वेदिक औषधियों के बारे में संक्षिप्त जानकारी आपको प्रदान की है कृपया इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें तथा आगे शेयर करें, किसी भी प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप मुझे मेरे ईमेल पते पर संपर्क कर सकते हैं

also read“शीघ्रपतन की दवा”


Disclaimer (मर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा)

इस लेख की सामग्री व्यावसायिक चिकित्सा सलाह(professional medical advice), निदान(diagnosis) या उपचार(ट्रीटमेंट) के विकल्प के रूप में नहीं है।

  • चिकित्सीय स्थिति के बारे में किसी भी प्रश्न के लिए हमेशा चिकित्सीय(doctor कंसल्टेशन) सलाह लें।

उचित चिकित्सा पर्यवेक्षण(without proper medical supervision) के बिना अपने आप को, अपने बच्चे को, या किसी और का  इलाज करने का प्रयास न करें।

इसे भी पढ़ें “टाइफाइड की जांच in हिंदी”

Information Compiled- by Dr. Vishal Goyal

Bachelor in Ayurvedic Medicine and Surgery

Post Graduate in Alternative Medicine MD (AM)

Email ID- [email protected]

Owns Goyal Skin and General Hospital, Giddarbaha, Muktsar, Punjabwriter-

“मर्दाना कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा” पढने के लिए धन्यवाद…


सन्दर्भ:

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3705695/- ayurvedic aphrodisiac medicine study 

https://www.charak.com/blog/sex-relationships/6-top-ayurvedic-medicines-for-low-sex-drive-in-male/-ayurvedic-medicines-for-low-male power study


 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

hello
%d bloggers like this: