दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय

दाद को जड़ से खत्म करने के सारे best उपाय- Ringworm Treatment in Hindi

दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय: दाद को जड़ से खत्म करने के उपाय जानने से पहले दाद क्या है इसके बारे में जानना बहुत जरूरी है इसको आम भाषा में रिंगवार्म भी कहते है और ये एक प्रकार का फंगल इन्फेक्शन है 

  • जो लाल या भूरे रंग की अंगूठी के आकार का होता है और बहुत अधिक खुजली का कारण बनता है।

यह अन्य सभी शरीर के अंगों में फैल जाता है तथा प्रभावित क्षेत्र के अनुसार इसके कई नाम हैं जैसे…

दाद के प्रकार (Types of fungal infections in hindi)

जो चाहें वो पढ़ें hide
1 दाद के प्रकार (Types of fungal infections in hindi)
1.1 टिनिया कॉर्पोरिस (tinea corporis in hindi)-

टिनिआ क्रूरिस (TINEA CRURIS)-

दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय
दाद tinea cruris

इसको टीनिया क्रुरिस या जॉक खुजली (JOCK ITCH) कहते है जब यह कमर क्षेत्र की आंतरिक जांघों (INNER SIDE OF THIGHS) को प्रभावित करता है।


टीनिया बार्बे (TINEA BARBAE)-

पुरुषों के दाढ़ी वाले हिस्से के प्रभावित होने पर इसे टीनिया बार्बाई कहा जाता है।


दाद पाद (TINEA PEDIS)-

जब इसने पैर को प्रभावित किया तो इसे एथलीट फुट या टिनिया पेडिस कहा जाता है।


ONYCHOMYCOSIS-

फंगल इन्फेक्शन जब नाखूनों को प्रभावित करता है तो इसे Onychomycosis या नाखुनो का फंगल संक्रमण कहा जाता है।


टीनिया मनुम (TINEA MANNUM)

जब ये फंगल संक्रमण हाथों पर फैलता है तो इसे टीनिया मैनम कहा जाता है।


TINEA CAPITIS

दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय
tinea capitis

जब कवक खोपड़ी (SCALP REGION) के क्षेत्र को प्रभावित करता है तो इसे टिनिया कैपिटिस कहा जाता है।


टिनिया कॉर्पोरिस (tinea corporis in hindi)-

टिनिया कॉर्पोरिस (TINEA CORPORIS)-
रिंगवर्म स्ट्रक्चर

जब ये फंगस हमारी पीठ, पेट, स्तन तथा नितंबों के नीचे के क्षेत्र आदि को प्रभावित करता है और रिंग जैसी संरचनाएं बनाता है

तो इसे त्वचा का टिनिया कॉर्पोरिस या रिंगवर्म संक्रमण कहा जाता है।

दरअसल यह कोई कीड़ा नहीं है, बल्कि रिंग संरचना के कारण इसे रिंगवर्म कहा जाता है।

  • यह पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित करने वाला सबसे सामान्य प्रकार का त्वचा संक्रमण है।
  • कवक (FUNGUS) न केवल मानव को प्रभावित करता है बल्कि यह जानवरों में बहुत सारी समस्याओं का कारण बनता है
  • इसके अलावा कवक (FUNGUS) हमारे पौधों और कृषि भूमि को भी प्रभावित करता है।

फंगस कई अन्य बीमारियों का भी कारण बनता है जैसे ओरल थ्रश जिसका मतलब है जीभ का फंगल संक्रमण

  • यह हमारे फेफड़ों को भी प्रभावित करता है और निमोनिया का कारण बनता है।
  • कवक (FUNGUS) हर जगह है और हर तीसरा या चौथा व्यक्ति त्वचा के फंगल संक्रमण से प्रभावित होता है।

आने वाले समय में ये भी महामारी का रूप लेगा ऐसा एक रिसर्च में पाया गया है


दाद के प्रमुख कारण (fungal infection causes in hindi)

त्वचा की दाद के संक्रमण डर्माटोफाइट्स (dermatophytes) नामक कवक (fungus) के एक समूह के कारण होते हैं।

जो आम तौर पर हमारी त्वचा पर रहकर संतुलन बनाए रखते हैं।

लेकिन जब कोई भी स्वस्थ व्यक्ति स्वच्छता का ख्याल नहीं रखता है और व्यायाम के बाद पसीने से लथपथ कपड़ों में रहता है

तो कवक (fungus) जल्दी से गुणा (multiply) करना शुरू कर देता है और त्वचा के फंगल संक्रमण का कारण बनता है।

  • दाद (jock itch) या टिनिआ क्रुरिस बहुत संक्रामक है और यह दूसरे व्यक्ति के संक्रमित कपड़ों का उपयोग करने से भी फैलता है जो पहले से ही दाद से प्रभावित है
  • कभी-कभी संक्रमित घरेलू जानवरों जैसे कुत्तों, बिल्लियों आदि से संक्रमण फैलता है,

इसलिए सावधान रहें और पालतू जानवरों की उचित स्वच्छता बनाए रखें।


ओटीसी ब्रांडों का अति प्रयोग (over the counter)

ओवर-द-काउंटर सामयिक स्टेरॉयड मरहम (topical creams) की उपलब्धता के कारण प्रत्येक व्यक्ति इन उत्पादों का उपयोग करता है और स्थिति को बद से बदतर बना लेता है।

उनकी लापरवाही के कारण सरल फंगल संक्रमण या सामान्य दाद बहुत जटिल और दवा प्रतिरोधी (drug resistant) फंगल संक्रमण में बदल जाता है

तो नियमित रूप से नैदानिक उपचार में इस तरह के फंगल संक्रमण या दाद का इलाज करना बहुत मुश्किल हो जाता है।

इसलिए इस प्रकार की उच्च शक्ति वाली स्टेरॉयड क्रीम के साथ खुद का इलाज करते समय सावधान रहें।

  • स्टेरॉयड साधारण संक्रमणों को सुपरइंफेक्शन में बदल देते हैं,
  • आपकी त्वचा को पतला करते हैं और बहुत सारे अन्य खतरनाक दुष्प्रभाव होते हैं।

इसलिए साधारण त्वचा संक्रमण को बहु-दवा प्रतिरोधी त्वचा संक्रमण में परिवर्तित न करें।

यहाँ मैं अपने मरीज़ों की एक तस्वीर साझा कर रहा हूँ,

दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय
stretch marks

जिन्होंने अधिक सामयिक क्रीमों के अति प्रयोग के कारण बहुत अधिक खिंचाव के निशान (stretch marks) त्वचा पर विकसित कर लिए हैं।

इस विषय में मैं आपको बिना किसी साइड इफेक्ट के इलाज के लिए सबसे अच्छा विकल्प दूंगा। साथ ही आपको कुछ घरेलू उपचार भी देते हैं जो दाद के उपचार में बहुत प्रभावी हैं।

fungus ज्यादातर शरीर के गर्म, पसीने और शरीर के अनहेल्दी क्षेत्रों को प्रभावित करता है


दाद या फंगल संक्रमण के लक्षण (Ringworm symptoms in hindi)

दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय
TINEA या दाद के लक्षण

लक्षण इस प्रकार के हो सकते है जैसे कि…

  • लालपन
  • जलन की अनुभूति
  • लगातार खुजली होना
  • त्वचा का छिलना
  • त्वचा का फटना
  • कभी-कभी त्वचा का फड़कना

प्रभावित क्षेत्र पर विशिष्ट चकत्ते दिखाई देते हैं

  • जब कभी-कभी द्वितीयक जीवाणु संक्रमण (secondary infections) होता है तो कभी-कभी पाक वाले फोड़े आदि (pustules) बन जाते हैं

ये कई प्रकार के दाद के सामान्य लक्षण हैं लेकिन प्रभावित क्षेत्र के अनुसार लक्षण देखने में भिन्न होते हैं। उदाहरण के लिए…

  • फंगल नाखून संक्रमण में नाखूनों में खुजली नहीं होती है
  • खोपड़ी में फंगल से प्रभावित होने पर खोपड़ी में बालों का झड़ना होता है

उपरोक्त सभी स्थितियों में दाद या टिनिया क्रुरिस तथा टिनिया कॉर्पोरिस बहुत समस्या पैदा करते हैं और अधिकांश जनता इनसे प्रभावित है।

यहां मेने दाद का वर्णन किया हैं जो दुनिया की असली महामारी बनने जा रही है विशेष रूप से एशिया जैसे गर्म और नमीयुक्त जलवायु के क्षेत्र मे।


दाद या फंगल संक्रमण की रोकथाम (prevention of fungal infection in hindi)

रोकथाम के उपाय के रूप में आपको अपनी त्वचा की सिलवटों (skin folds) को विशेष रूप से साबुन तथा पानी से रोजाना धोना चाहिए।

  • एक स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखें और अपने कपड़े रोज बदलें
  • इनर वियर जैसे अंडरवियर को रोजाना धोना और बदलना चाहिए। अंडरवियर कपास सामग्री (cotton material) से बने होने चाहिए है
  •  नम या गीला व गन्दा अंडरवियर नहीं पहनना है
  • क्योंकि दाद के 90 प्रतिशत से अधिक मामले नम तथा गंदे इनरवियर पहनने के कारण होते हैं,

मैं आपको सलाह देता हूं कि इसके इस्तेमाल से पहले आपके इनरवियर को इस्त्री (ironing) किया जाना चाहिए।


दाद का निदान (Diagnosis of fungal infection in hindi) 

  • यह बहुत आसान है केवल शारीरिक परीक्षण से आपका त्वचा विशेषज्ञ सही निदान कर लेता है

लेकिन कुछ मामलों में, त्वचा के छींटों (स्किन scrapings) को कुछ अन्य प्रकार के त्वचा रोगों जैसे सोरियासिस का पता लगाने के लिए परीक्षण किया जाता है


दाद का इलाज (treatment of fungal infection in hindi)

आधुनिक चिकित्सा में कुछ सामयिक क्रीम (topical creams) तथा कुछ टैबलेट्स में बहुत सीमित (limited) उपचार विकल्प उपलब्ध हैं 

  • फ़्लुकोनाज़ोल (FLUCONAZOLE) तथा इट्राकोनाज़ोल (ITRACONAZOLE) मुख्य मौखिक दवाएं हैं

जो दुनिया में इस्तेमाल की जाती हैं दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपायों में ये सबसे आगे है

  • इनके अलावा टेरबिनाफिन (TERBINAFINE) तथा ग्रिस्फोफ्लविन (GRISEOFULVIN) का उपयोग उपरोक्त दवाओं के साथ भी किया जाता है।

दाद के उपचार के लिए मिकोनाजोल (MICONAZOLE), क्लोट्रिमाज़ोल (CLOTRIMAZOLE) तथा केटोकोनाज़ोल (KETOCONAZOLE) सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली सामयिक (TOPICAL OINTMENTS) दवाएं हैं।

  • इनके अलावा कई केसों में Econazole उपरोक्त दवाओं के साथ-साथ ऑक्सीकोनाज़ोल (OXICONAZOLE) तथा लुलिकोनज़ोल (LULICONAZOLE) का भी उपयोग किया जाता है।

ये सामयिक दवाएं हल्के से उच्च शक्ति वाले स्टेरॉयड के संयोजन के साथ उपलब्ध हैं।

  • इसलिए उचित मरहम का चयन करते समय बहुत सावधान रहें।

किसी भी प्रकार की मौखिक या सामयिक दवा का चयन करने से पहले आपको अपने त्वचा चिकित्सक से परामर्श जरुर करना चाहिए।


हमारी सीमाएँ (How to treat ringworm?)

मैं दृढ़ता से त्वचा के दाद या फंगल संक्रमण के इलाज के लिए ओवर-द-काउंटर दवाओं का उपयोग नहीं करने की सलाह देता हूं। क्योंकि हमारे पास बहुत सीमित दवाएं हैं

  • अगर इन दवाओं से प्रतिरोध (RESISTANCE) विकसित होता है तो डॉक्टरों के लिए आपके फंगल संक्रमण का इलाज करना बहुत मुश्किल हो जाएगा।

फिर इस तरह के साधारण त्वचा संक्रमण त्वचा की प्रमुख बीमारिया बन जायेंगी, जिनसे निजात पाना भविष्य में बहुत कठिन हो जाएगा

इसलिए बिना जानकारी मेडिकल से खरीद कर इन दवायों का अति मात्रा में use नहीं करना चाहिए


पुराने से पुराने दाद की दवा

दाद कितना भी पुराना क्यों ना हो, इस जबरदस्त घरेलू नुस्खे से कुछ ही दिनों में दाद खाज खुजली की समस्या से पूरी तरह छुटकारा पाना संभव है इसके लिए आपको थोड़ी मेहनत कर घर पर इस नुस्खे को तैयार करना है इस नुस्खे में सबसे पहले…

  • आपको दो टिकिया कपूर की लेनी है जिसको किसी खरल या अन्य उपकरण में डालकर कूट पीसकर उसका चूर्ण बना लेना है
  • इसके बाद 10 से 15 पत्ते तुलसी के लेकर उसे कूट पीसकर उसका रस निकाल लेना है 
  • फिर आपने एक कटोरी में कपूर तथा तुलसी के पत्तों को रस सहित डालकर अच्छी प्रकार से मिक्स कर लेना है
  • इसके बाद इस मिश्रण में आपने घृतकुमारी यानी एलोवेरा के ताजे पत्ते से निकाला हुआ थोड़ा सा एलोवेरा का गूदा मिलाकर इसको अच्छी प्रकार मिक्स कर लेना है
  • फिर इसमें कुछ बूंदे नींबू के रस की डालकर अच्छी प्रकार से मिक्स कर दें

लगाने की विधि-

दाद खाज खुजली से प्रभावित क्षेत्र पर इस मिश्रण को रुई की सहायता से अच्छी प्रकार लगाकर कम से कम आधा घंटा तक सूखने दें,  इसके बाद इसको हल्के पानी से साफ कर दे

नोट- ज्यादा लाभ प्राप्त करने के लिए कड़वे नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर उस पानी का प्रयोग हफ्ते में दो बार नहाने के लिए करने से कुछ ही दिनों में दाद खाज खुजली की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा


भयंकर दाद खाज की दवा tablet (Prescription by a doctor)

मैं आपको सबसे अच्छा नुस्खा दे रहा हूं यदि आप पहले से ही दाद या टिनिया कॉर्पोरिस संक्रमण से पीड़ित हैं

  • लेकिन इसे लेने से पहले आपको अपने डॉक्टर से या मेरे साथ मेरे व्हाट्सएप नंबर पर ऑनलाइन परामर्श करना होगा

यह नुस्खा …

१. कैप. इट्राकोनाजोल (itraconazole) 100 मिलीग्राम दिन में दो बार
२. टैब. रॉक्सिथ्रोमाइसिन (roxithromycin) 150mg दिन में दो बार
३. टैब. Ebastine 20mg दिन में एक बार
४. दिन में एक बार टैब.विटामिन सी (vitamin c)

  • पर्मेथ्रिन (permethrin) या नीम साबुन के साथ नहाना है व मरहम क्लॉट्रिमेज़ोल प्लेन रोज़ाना दो बार स्नान के बाद लगाना है।

यह सब उपचार चार से छह सप्ताह तक करें व उचित स्वास्थ्यकर (proper hygienic conditions) स्थिति बनाए रखें।

इस उपचार को लेने के बाद यदि आपको कोई समस्या है तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें।


Dad ki dawa cream (दिनाय का क्रीम)

  • Luliconazole फंगस इनफेक्शन या दाद को जड़ से खत्म करने की आधुनिक समय मे प्रयोग की जाने वाली सबसे एडवांस एंटी फंगल क्रीम है 

जो 10 ग्राम तथा 30 ग्राम की मात्रा में मार्केट में उपलब्ध है 

दाद, दिनाय, रिंगवॉर्म, jock itch इत्यादि हर प्रकार की फफूंद जनित संक्रमण को नियंत्रित करने की सबसे बेहतरीन सतह प्रयोग (Topical Use) की जाने वाली क्रीम है

लुल्लीकोनाजोल क्रीम का इस्तेमाल प्रभावित क्षेत्र पर दिन में दो बार दो से 3 दिन तक करने से ही दाद की समस्या जड़ से खत्म हो जाती है 

परंतु याद रहे इस्तेमाल से पहले त्वचा पर थोड़ी सी क्रीम लगाकर इसकी सेंसटिविटी जरूर जांच लें, अन्यथा कई मामलों में कई व्यक्तियों को गंभीर एलर्जी भी इसके इस्तेमाल से हो सकती है

जो व्यक्ति दाद, खाज, खुजली की समस्या से लंबे समय से ग्रसित हैं तथा हर प्रकार का घरेलू उपाय अपनाने के बावजूद इस समस्या से निजात पाने में सफल नहीं हुए हैं ऐसे व्यक्तियों के लिए दाद को खत्म करने का यह एक रामबाण उपाय है

  • Luliconazole दाद के इलाज के लिए प्रयोग की जाने वाली अन्य प्रकार की ऑइंटमेंट जैसे रिंगगार्ड (Miconazole), Quadriderm, Clotrimazole, Micozel 2%, Ketoconazole, Econazole की तुलना में सबसे ज्यादा असरदार है

सभी एंटीफंगल क्रीम में से Luliconazole ऑइंटमेंट सबसे महंगी ट्यूब है परंतु असरदार भी सबसे ज्यादा है

लगाने का तरीका

दाद से प्रभावित क्षेत्र पर थोड़ी सी मात्रा में यह क्रीम दिन में दो बार डॉक्टर के कहे अनुसार लगानी चाहिए

इस क्रीम को ज्यादा से ज्यादा 5 दिन तक इस्तेमाल करना चाहिए अगर फिर भी पूरी तरह फायदा ना हो तो ऐसी स्थिति में अपने त्वचा रोग विशेषज्ञ से सलाह मशवरा करना जरूरी होता है 

Luliconazole Composition (luliconazole cream in hindi) 

1% Luliconazole क्रीम मे 10 मिलीग्राम की मात्रा मे luliconazole प्रति 1 ग्राम क्रीम में मौजूद होता है इसके अलावा इसमे…

  • Benzyl Alcohol 
  • Butylated Hydroxytoluene 
  • Cetostearyl Alcohol 
  • Isopropyl Myristate 
  • Medium Chain Triglycerides 
  • Methylparaben 
  • Polysorbate 60
  • Propylene Glycol 
  • Sorbitan Monostearate 

Purified Water


Q क्या हम खोपड़ी पर luliconazole लगा सकते हैं?

A जी हां, डैंड्रफ यानि रूसी की समस्या ज्यादा होने की स्थिति में लुलिकॉनाजोले+Zinc Pyrithione +Salicylic Acid के कंबीनेशन को खोपड़ी पर इस्तेमाल कर डैंड्रफ की समस्या को जड़ से खत्म किया जा सकता है


Q Luliconazole cream क्या काम आती है?

A लूलीकोनाजोल सबसे एडवांस एंटी फंगल क्रीम है जिसका उपयोग दाद, दिनाय, रिंगवॉर्म, jock itch, परतदर खुजली के इलाज के लिए किया जाता है


Q कौन सा बेहतर है luliconazole या fluconazole?

A Luliconazole 1% क्रीम सुरक्षा तथा असर के हिसाब से ज्यादा बेहतर विकल्प है क्योंकि यह ज्यादा एडवांस है


Q is lulifin जाक खुजली के लिए अच्छा है?

A जी हां, Lulifin क्रीम का इस्तेमाल Jock itch, एथलीट फुट तथा हर प्रकार के गंभीर फंगल संक्रमण को दूर करने में बहुत प्रभावी है


Q फंगल इंफेक्शन के लिए सबसे अच्छी दवा कौन सी है?

A सतह प्रयोग (Topical Use) के लिए Lulifin क्रीम सबसे बढ़िया विकल्प है वही Oral यूज़ के लिए कैप्सूल इट्राकोनाजोल का इस्तेमाल एंटीफंगल दवा के रूप में सबसे ज्यादा किया जाता है


Q प्राइवेट पार्ट से फंगल इन्फेक्शन कैसे दूर करें?

A प्राइवेट पार्ट में फंगल इन्फेक्शन दूर करने के लिए Ketoconazole साबुन का इस्तेमाल नहाते समय करना चाहिए

नहाने के बाद त्वचा सूख जाने पर Clotrimazole ऑइंटमेंट का इस्तेमाल प्रभावित क्षेत्र पर करने से प्राइवेट पार्ट्स से फंगल इन्फेक्शन ठीक हो जाता है


Q लड़कियों के प्राइवेट पार्ट में जलन क्यों होती है?

A लड़कियों के प्राइवेट पार्ट में जलन का कारण फंगल या बैक्टीरियल संक्रमण हो सकता है इसके लिए अपने डॉक्टर से परामर्श कर सही इलाज करवाना जरूरी है


Top luliconazole क्रीम ब्रांड्स 

R.M luliconazole क्रीम 1% w/w 2 का पैक (30 gm प्रत्येक) HEALTHCARE पार्टनर-

ब्रांड (BRAND)R.M (आर एम् )
आइटम का फ़ॉर्म (FORM)क्रीम (OINTMENT)
प्रोडक्ट के फ़ायदे (BENEFITS)Anti-Fungal
सक्रिय सामग्री (INGREDIENTS)लुलिकोनाज़ोल (LULICONAZOLE)
उम्र की रेंज (AGE LIMIT)वयस्क (ADULTS)
प्रोडक्ट के लिए SPECIFIC USEएलर्जी (ALLERGY)
कुल मात्रा (TOTAL AMOUNT)60 ग्राम 
आइटम की संख्या (TOTAL COUNT)2
पैकेज INFORMATIONTube (टयुब)
स्वाद (TASTE)कोई स्वाद नहीं (NO TASTE)

लुलियन लुलिकोनाज़ोल CREAM 1% W/W – 30 ग्राम-

इस Product के बारे में जानकारी –

  • Composition : लुलिकोनाज़ोल 1.0 % – क्रीम base q.s. Fungal संक्रमण में बहुत फायदेमंद है
  • चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत use किया जाना जरूरी है। प्रयोग के बाद tube को कसकर बंद कर दे
  • DOSE : DOCTOR द्वारा निर्देशित 
  • बच्चों की पहुँच से दूर रखें, केवल ADULT USE के लिए है

STORAGE निर्देश –  30 डिग्री सेल्सियस से अधिक TEMPERATURE पर इसे स्टोर ना करें। प्रकाश तथा नमी से बचाकर रखें। FREEZE न करें


प्राइवेट पार्ट में खुजली की दवा (Luliford क्रीम 30 gm 2 का PACK)-

पुराने से पुराने दाद, रिंगवॉर्म, Jock itch इतियादी की समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए लीफोर्ड कंपनी का लुलिफोर्ड ब्रांड भी आजकल डॉक्टरों के द्वारा खूब यूज़ किया जा रहा है इस प्रोडक्ट का रिजल्ट शत प्रतिशत है

आप बेफिक्र होकर इसका इस्तेमाल अपनी दाद की समस्या को दूर करने के लिए कर सकते हैं यह ब्रांड मेडिकल स्टोर्स पर भी उपलब्ध है


रिंग गार्ड क्रीम (Ring guard uses in hindi)

घरेलू यूज़ के लिए उपयोग की जाने वाली कम साइड इफेक्ट्स युक्त, Steroid रहित, बेस्ट एंटीफंगल क्रीम रिंग-गार्ड है 

जिसका इस्तेमाल दाद, खाज, खुजली, एथलीट फुट तथा रिंगवॉर्म जैसे कवक से होने वाले रोगों के उपचार के लिए पूरे भारतवर्ष में सबसे ज्यादा मात्रा में किया जाता है

रिंग गार्ड क्रीम लगभग हर मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध है साथ ही साथ यह क्रीम कोई ज्यादा महंगी भी नहीं है

रिंग गार्ड के प्रमुख फायदे

  • फंगल संक्रमण को दूर करने में बहुत ही असरदार होती है
  • त्वचा पर होने वाले सामान्य संक्रमण को भी कुछ दिनों में ठीक कर देती है
  • SKIN पर होने वाली लालिमा, दाद, खाज, खुजली, एथलीट फुट, त्वचा का फटना इत्यादि समस्याओं में भी उपयोगी है

Ring guard composition (मुख्य घटक)

Composition (मुख्य घटक)- 

  • मिकोनोजोल नाइट्रेट I.P – 2.00% w/w,
  • Neomycin सलफेट- I.P 0.50% w/w,
  • chlorocresol I.P (Preservative) – 0.10% w/w (Cream Base Q.S.)
  • बेस्ट एंटी fungal क्रीम घरेलू यूज़ के लिए

Recommended Dosage (मात्रा) तथा लगाने का तरीका –  दाद से प्रभावित क्षेत्र को धोकर सुखा लें तथा घाव के मिट जाने के बाद दिन में 2-3 बार रिंग गार्ड क्रीम उस जगह पर लगाएं तथा ये प्रक्रिया एक हफ्ते तक जारी रखें

निर्माता and Marketed By –  Reckitt Benckiser हेल्थकेयर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड

रिंग-गार्ड  क्रीम का मूल्य (Ring guard price in hindi)-

  • 20 ग्रामस की रिंग-गार्ड क्रीम- 96 रुपए के लगभग
  • 12 ग्रामस की रिंग-गार्ड क्रीम- 75 रुपए के लगभग 

लुलिकोनाज़ोल लोशन (Luliconazole lotion uses in hindi)

Lulifin – Bottle of 20 ml Lotion

लुलिकॉनाजोल दवा मार्केट में लोशन के रूप में भी उपलब्ध है 

जिसका प्रमुख उपयोग त्वचा के ऊपर होने वाले फंगल संक्रमण जैसे एथलीट फुट, धोबी खुजली, दाद, खाज, त्वचा की परतदार खुजली तथा खोपड़ी में होने वाले फंगल संक्रमण टीनिया कैपिटिस (Tinea Capitis) के इलाज के लिए प्रमुख रूप से डॉक्टरों द्वारा किया जाता है

  • इस लोशन का इस्तेमाल डॉक्टर के द्वारा बताई गई खुराक तथा अवधि को ध्यान में रखकर निर्धारित मात्रा में करना चाहिए
  • ज्यादा मात्रा में प्रयोग करने से कई प्रकार के दुष्प्रभाव त्वचा पर हो सकते हैं
  • फंगल संक्रमण के ज्यादातर मामलों में 2 से 4 सप्ताह तक इस लोशन का इस्तेमाल करने से यह संक्रमण ठीक हो जाते हैं
  • लुलिकॉनाजोल लोशन त्वचा को साफ तथा सूखा करने के बाद प्रभावित क्षेत्र पर उंगलियों की सहायता से दिन में एक से दो बार फंगल संक्रमण की तीव्रता को देखते हुए लगाया जाता है
  • यदि कोई व्यक्ति एथलीट फुट या टीनिया पेडिस (TINEA PEDIS) से पीड़ित है तो उसको अपनी जुराबे (Socks) अच्छी प्रकार से धोकर इस्तेमाल करनी चाहिए तथा रोजाना या दिन में दो बार बदलनी चाहिए

जितना संभव हो सके जूतों का इस्तेमाल कम से कम करना चाहिए, जिससे प्रभावित क्षेत्र को नमी से मुक्त रखा जा सके

Luliconazole लोशन के साइड इफेक्ट्स (Side Effects of Luliconazole in Hindi)

Luliconazole लोशन के इस्तेमाल से कई व्यक्तियों में नीचे लिखे दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे कि…

  • त्वचा का फटना
  • लालिमा आना
  • त्वचा का सूखापन बढ़ जाना
  • ज्यादा जलन होना
  • खुजली बढ़ना इत्यादि

ज्यादातर मामलों में यह दुष्प्रभाव सामान्य ही होते हैं जो कुछ ही दिनों में ठीक हो जाते हैं

विशेष ध्यान दे

  • यदि इस लोशन को लगाने के बाद किसी व्यक्ति को एलर्जी की समस्या जैसे त्वचा पर रैशेज, होठों, गले तथा चेहरे पर सूजन की प्रॉब्लम होती है तो ऐसी स्थिति में तुरंत ही अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

इस लोशन को लगाते वक्त आंखों के सीधे संपर्क में इसे ना आने दे, अगर आंखें इस लोशन के संपर्क में आ जाती है तो तुरंत ही आंखों को पानी से धो देना चाहिए

अगर कोई व्यक्ति किसी भी प्रकार के अन्य रोग उपचार के लिए किसी भी दवा का सेवन पहले से कर रहा है तो ऐसी स्थिति में Luliconazole लोशन के इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना बहुत जरूरी है

स्तनपान करवाने वाली महिलाएं, गर्भवती स्त्रियां, एलर्जी से पीड़ित रोगी इस लोशन का इस्तेमाल बिना डॉक्टर की सलाह के बिल्कुल भी ना करें


दाद के लिए साबुन (fungal infection soap)

  • किटकोज (KitcoZ) एंटीफंगल Soap 
  • Itrostred एंटी फंगल साबुन
  • ABZORB एंटीफंगल क्लींजिंग बार
  • Ketomac Soap 
  • Lolipol एंटी फंगल साबुन
  • KetoClass Antifungal Soap 
  • Tetmosol औषधीय साबुन
  • Lulibex एंटी फंगल साबुन
  • Ketomax एंटी फंगल Soap 
  • Candid 1% Soap 
  • Ketotosc antifungal साबुन
  • Candid KZ

एंटी फंगल साबुन के बारे में सामान्य जानकारी-

इस प्रकार की Soaps के अंदर प्रमुख रूप से क्लोट्रिमाजोल, कीटोकोनाजोल, फ्लुकोनाज़ोल जैसे इंग्रेडिएंट्स मौजूद होते हैं जिनका इस्तेमाल फंगस संक्रमण की रोकथाम तथा इलाज के लिए प्रमुख रूप से किया जाता है

यह बहुत ही असरदार तुरंत परिणाम देने वाले तथा त्वचा के लिए बिल्कुल सुरक्षित होते हैं

फंगल संक्रमण के कारण त्वचा पर होने वाली खुजली, लालिमा, त्वचा का फटना इत्यादि लक्षणों को ठीक करने में बहुत सहायक हैं

एंटीफंगल Soaps का इस्तेमाल प्रमुख रूप से रिंगवॉर्म, एथलीट फुट, नैपी रैश, वेजाइनल थ्रश तथा अन्य प्रकार के दाद को ठीक करने के लिए किया जाता है

पुरुष तथा महिलाएं कोई भी व्यक्ति इनका इस्तेमाल बिल्कुल बेफिक्र होकर कर सकता है

दाद की समस्या ज्यादा होने पर दवाइयों के साथ-साथ एंटीफंगल साबुन का इस्तेमाल दाद को जड़ से खत्म करने में बहुत मददगार साबित होता है

ऊपर दी गई एंटी फंगल साबुन के लिस्ट में से आप इनको बाजार या ऑनलाइन खरीद सकते हैं


दाद को जड़ से खत्म करने के उपाय (Home Remedies to cure tinea in hindi)

  • नीम (Azadirachta indica) एक बहुत ही सामान्य पौधा है आपको प्रतिदिन दो बार प्रभावित क्षेत्रों पर नीम का पेस्ट लगाना चाहिए व् उचित स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए।
  • त्वचा के दाद या फंगल संक्रमण के इलाज के लिए लहसुन का पेस्ट सामयिक (topical) उपयोग के लिए भी बहुत उपयोगी है।
  • नारियल के तेल में थोड़ी मात्रा में कपूर मिलाकर पेस्ट बना लें तथा फिर प्रभावित क्षेत्रों पर रोजाना दो से तीन बार लगायें

यह दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय के हिसाब से सामयिक उपयोग के लिए बहुत प्रभावी है।

  • VicksVaporub में कैम्फ़र व मेंथोल के साथ-साथ नीलगिरी का तेल भी शामिल है जो कि फंगल संक्रमण पर बहुत प्रभावी  है।
  • एप्पल साइडर सिरका दाद  के इलाज के लिए आंतरिक रूप (internally) से उपयोग किया जा सकता है।
  • किसी भी तरह की त्वचा की समस्या के लिए आयुर्वेद में टी ट्री ऑयल (Tea tree oil) का उपयोग किया जाता है।
  • दही तथा प्रोबायोटिक्स खाएं, क्योंकि उनमें पर्याप्त मात्रा में अच्छे बैक्टीरिया होते हैं जो वास्तव में किसी भी प्रकार के फंगल संक्रमण को रोकने में मदद करते हैं।
  • नारियल के तेल में लौरिक एसिड (Lauric acid) व एंटीमाइक्रोबियल लिपिड होते हैं जो नारियल की तरह मध्यम-श्रृंखला फैटी (medium chain fatty acids) एसिड में पाए जाते हैं इसलिए नारियल तेल का उपयोग कई वर्षों से कई प्रकार के त्वचा संक्रमणों के इलाज के लिए किया जाता है।

हल्दी में एंटीमाइक्रोबियल व एंटी-फंगल गुण भी होते हैं  इसका उपयोग त्वचा के कई फंगल संक्रमणों के इलाज के लिए भी किया जाता है।


दाद खाज खुजली के लिए होम्योपैथिक दवा (treatment of fungal infection in homeopathy in hindi)

  • बेसिलिनम (Bacillinum)
  • टेल्यूरियम (Tellurium)
  • सीपिया (Sepia)
  • सल्फर (Sulphur)
  • दुलमकारा (Dulcamara)

जिनका उपयोग कई तरह की त्वचा की समस्याओं खासकर फंगल संबंधी समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है।

  • ज़ालिम लोशन व ज़ालिम एक्स लोशन भी दाद का इलाज करने के लिए बहुत प्रभावी आयुर्वेदिक ब्रांडेड दवाएं हैं।

हालांकि फंगल संक्रमण गंभीर नहीं हैं, लेकिन स्टेरायडल मलहम (steroid ointments) के अति प्रयोग से स्थिति बहुत खराब हो जाती है।

  •  सामयिक स्टेरॉयड (topical steroids) के लंबे समय तक उपयोग के बाद त्वचा पर बहुत सारे स्ट्रेच निशान उभर आते हैं तथा एक बार जब वे फट जाते हैं तो उनका इलाज करना असंभव है।

सामयिक स्टेरॉयड भी त्वचा के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम करते हैं।


दाद की दवा पतंजलि (टीनिया का आयुर्वेदिक उपचार)

पतंजलि आयुर्वेदा में दाद खाज खुजली जैसी त्वचा की समस्याओं के समाधान के लिए अनेक प्रकार की शुद्ध आयुर्वेदिक दवाई मौजूद हैं

इनका इस्तेमाल पतंजलि आयुर्वेदा के डॉक्टरों के द्वारा पीड़ित व्यक्ति की प्रकृति, रोग का इतिहास, उम्र, लिंग तथा अन्य कई बातों का सही से विचार विमर्श कर दवाई का सिलेक्शन किया जाता है पतंजलि आयुर्वेदा में दाद की प्रमुख दवा के रूप में जिन औषधियों का प्रयोग किया जाता है उनके नाम नीचे दिए गए हैं जैसे कि…

  1. पतंजलि दिव्य कायाकल्प वटी 
  2. Patanjali दिव्या हरिद्राखंड टेबलेट
  3. दिव्य कायाकल्प तेल पतंजलि
  4. पतंजलि दिव्य कायाकल्प क्वाथ
  5. Patanjali दिव्या ड़रमाग्रिट टेबलेट

ऊपर लिखी त्वचा रोगों की औषधियों में पतंजलि आयुर्वेदा द्वारा अनेक प्रकार की शुद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां जैसे कि काला जीरा, त्रिफला, अजवाइन, मंजिष्ठा, हल्दी, नागर मोथा, बहेड़ा, दालचीनी, गिलोय, जीरा, चंदन, देवदारू, नीम, तिल का तेल, चिरायता, करंज बीज, इंद्रायण मूल, अमलतास, कुटकी, बाकूची आदि का प्रयोग किया जाता है

इनमें से ज्यादातर जड़ी बूटियां anti-inflammatory, एंटीमाइक्रोबॉयल तथा एंटीफंगल गुणों से युक्त होती हैं इसीलिए सही तरीके से इन औषधियों का इस्तेमाल अगर किया जाए तो कुछ ही समय में दाद खाज खुजली से छुटकारा पाना बिल्कुल संभव है


दाद से सम्बंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

Q दाद को जड़ से मिटाने के लिए क्या करें?

A अगर घरेलू उपायों की मदद से दाद की समस्या ठीक नहीं हो रही है तो ऐसी स्थिति में अपने चिकित्सक की सलाह से कैप्सूल Itraconazole 200 mg का सेवन सुबह शाम कुछ हफ्तों तक कर सकते हैं 

इसके साथ साथ Candid B क्रीम को प्रभावित क्षेत्र पर दिन में दो बार लगाने से दाद को जड़ से मिटाया जा सकता है


Q दाद की सबसे अच्छी टेबलेट कौन सी है?

A टेबलेट के रूप में दाद को मिटाने के लिए सबसे ज्यादा प्रयोग की जाने वाली दवा Fluconazole 150/200 mg है 

इसके अलावा कैप्सूल Itraconazole 100/200 mg भी दाद को ठीक करने में बहुत महत्त्व रखते हैं


Q दाद किसकी कमी से होता है?

A दाद त्वचा पर होने वाला एक प्रकार का फंगल संक्रमण है जिसकी मुख्य वजह ज्यादा पसीना, गर्मी तथा त्वचा की साफ-सफाई ठीक से ना रखना है 

इसको फैलाने वाले फंगस का नाम Tinea है जो आगे कई प्रकार का होता है


Q दाद खाज खुजली का रामबाण इलाज क्या है?

A आयुर्वेदिक उत्पाद जालिम लोशन या जालिम एक्स लोशन का इस्तेमाल दिन में दो बार नियमित रूप से करने से दाद खाज खुजली से छुटकारा मिल जाता है इसके अलावा हल्दी का पेस्ट प्रभावित क्षेत्र पर दिन में दो बार लगाने से भी कुछ ही दिनों में इसमें आराम मिल जाता है


Q मनुष्यों में दाद का क्या कारण होता है?

A मनुष्य में दाद का प्रमुख कारण विशेष प्रकार का फंगस है जिसे डर्मेटोफाइट्स भी कहते हैं सामान्य स्थितियों में यह हमारी त्वचा के ऊपर मौजूद रहता है साथ ही साथ अपना संतुलन भी बनाए रखता है 

परंतु कई स्थितियों में यह तीव्रता से बढ़ने लगता है जिससे मनुष्य में दाद की समस्या उत्पन्न होती है


Q दाद कितने समय तक रह सकता है?

A सही उपचार ना करने की स्थिति में दाद की समस्या कई महीनों से लेकर कई सालों तक बनी रह सकती है इसका उपचार सामान्य रूप से दो से चार हफ्तों में पूरी तरह से हो जाता है

“दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय keep reading…


Q दाद के 3 लक्षण क्या है?

A दाद का प्रमुख लक्षण त्वचा पर होने वाले गोल-गोल लाल रंग के चकत्ते हैं जो गोलाकार तथा उभरे हुए किनारों वाले होते हैं 

इसके साथ-साथ इसमें बहुत ज्यादा खुजली तथा जलन इत्यादि की समस्या होती है


Q दाद में क्या नहीं खाना चाहिए?

A दाद होने पर आहार में गर्म चीजों जैसे चिकन, मटन, गरम मसाला, ज्यादा मात्रा में चाय कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए

ऐसा इसलिए है क्योंकि गरम चीजों के सेवन से ज्यादा पसीना आता है जिससे दाद तेजी से फैलता है

बाकी मीठे का सेवन भी दाद से पीड़ित व्यक्ति को कम मात्रा में करना चाहिए


Q दाद में नींबू लगाने से क्या होता है?

A आयुर्वेदिक नुस्खों के हिसाब से नींबू के रस में थोड़ा सा नवसादर पीसकर दाद पर लगाने से यह समस्या जल्दी ही ठीक हो जाती है


Q चर्म रोग की असली दवा क्या है?

A चर्म रोग से बचने की असली दवा पूर्ण स्वच्छता को बनाए रखना है गीले तथा नमी वाले इनरवियर को पहनने से बचना है ज्यादा मेहनत वाला कार्य करने वालों को दिन में दो बार नहाना चर्म रोगों से बचा सकता है


Q कपूर से दाद का इलाज कैसे करें?

A इसके लिए थोड़ी सी मात्रा शुद्ध नारियल तेल को लेकर थोड़ा सा कपूर उसमें अच्छी प्रकार से मिलाकर दाद खाज खुजली प्रभावित क्षेत्र में दिन में दो बार लगाने से थोड़े ही दिनों में इस समस्या से निजात मिल जाता है इचिंग की समस्या में यह नुस्खा बहुत कारगर माना जाता है


Q दाद की अंग्रेजी दवा कौन सी है?

A दाद को ठीक करने के लिए प्रमुख रूप से इस्तेमाल की जाने वाली अंग्रेजी दवाएं निम्नलिखित हैं जैसे कि…

लल्लीकोनाजोल इत्यादि


Q दाद कितने प्रकार के होते हैं?

A त्वचा को संक्रमित करने के हिसाब से दाद के संक्रमण कई प्रकार के होते हैं जैसे कि Tinea Cruris (जांघों के अंदर), Tinea Pedis या Athlete’s foot (पैरो की उंगलियों में),Tinea Versicolor (छाती तथा पीठ पर) Tinea Barbae (दाढ़ी में) इतियादी


 Q दाद के लिए क्या खाएं?

A दाद को ठीक करने के लिए किसी भी विशेष आहार को महत्व नहीं दिया गया है पीड़ित व्यक्ति केवल गर्म तासीर वाली चीजों को खाने से परहेज करें


Q क्या आपको दो बार दाद हो सकता है?

A त्वचा से जुड़े स्वच्छता नियमों का सही से पालन ना करने पर दो तो क्या आपको कई बार दाद की समस्या से जूझना पड़ सकता है


Q दाद में फिटकरी लगाने से क्या होता है?

A आयुर्वेद में फिटकरी का मुख्य इस्तेमाल रक्त बहने को रोकने के लिए किया जाता है इसके लिए फिटकरी पाउडर का मुख्य इस्तेमाल किया जाता है 

इसके अलावा यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से बचने के लिए फिटकरी वाले पानी से उस क्षेत्र को धोने से भी लाभ मिलता है


Q चर्म रोग में कौन सा साबुन लगाना चाहिए?

A दाद खाज खुजली जैसे चर्म रोग होने की स्थिति में पर्मेथ्रिन (Permethrin) साबुन जैसे Scrabic soap by lefford कंपनी का इस्तेमाल सबसे ज्यादा फायदा करता है

इसके अलावा नीम के साबुन का प्रयोग भी कर सकते हैं


Q दाद में कौन सा तेल लगाएं?

A आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार नारियल का तेल एंटीफंगल तथा एंटीमाइक्रोबॉयल गुणों से युक्त होता है इसलिए नारियल तेल का इस्तेमाल दाद के लिए सबसे बढ़िया विकल्प है

लगाने से पहले नारियल तेल को थोड़ा सा गर्म कर लेना भी जरूरी है


Q दाद खाज खुजली के लिए कौन सा क्रीम अच्छा है?

A दाद खाज खुजली की समस्या से छुटकारा पाने के लिए क्वाड्राइडर्म नफ (Quadriderm NF), माईकोजेल 2% (Micogel 2%), Candid B तथा रिंगगार्ड क्रीम बहुत अच्छा है


Q जांघों के बीच की खुजली कैसे दूर करें?

A इसके लिए कैंडिड बी क्रीम का इस्तेमाल दिन में दो बार कुछ दिन करने से जांघों के बीच की खुजली ठीक हो जाती है

घरेलू उपायों में नारियल के तेल में थोड़ा सा कपूर मिश्रित कर लगाने से भी जांघों की खुजली ठीक हो जाती है


Q बहुत ज्यादा खुजली हो तो क्या करें?

A बहुत ज्यादा खुजली की समस्या होने पर किसी भी बढ़िया anti-allergic दवा जैसे सेट्रिजीन, Ebastin, Loratadine या Levocetirizine किसी भी गोली का इस्तेमाल किया जा सकता है

इसके अतिरिक्त शुद्ध हल्दी में थोड़ा सा नारियल का तेल मिलाकर प्रभावित क्षेत्र पर लगाने से भी बहुत आराम मिलता है


Q दाद कहां दिखाई देते हैं?

A दाद के सबसे ज्यादा मामले जांघों (Inner thighs) के अंदर होने वाले संक्रमण के होते हैं इसके इलावा छाती, पीठ, नितंबों तथा कई बार चेहरे पर भी दाद के संक्रमण के चिह्न दिखाई देते हैं


Q खुजली का सबसे अच्छा क्रीम कौन सा है?

A खुजली की समस्या को ठीक करने के लिए पेंड्रम पलस (Panderm plus) क्रीम बहुत फायदेमंद है इसके अलावा कॉस्मेट जीएम, Derma plus, कैंडिड बी इत्यादि क्रीम्स भी काफी असरदार है


मेरी राय (दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय)

writer
लेखक
  • मुझे लगता है कि मैंने फंगल या दाद रोगों के प्रत्येक व हर पहलू को विस्तार से समझाया है और यदि आपके कोई प्रश्न हैं या मेरे साथ परामर्श करना चाहते हैं तो मुझे [email protected] पर लिखें

साथ में मुझे प्रभावित क्षेत्रों (AFFECTED AREAS OF SKIN) की तस्वीरें मेरे व्हाट्सएप नंबर +91 9855262699 पर भेजें।

  • मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि किसी भी तरह की त्वचा की समस्या से छुटकारा पाने में मैं आपकी मदद जरूर करूंगा।

Dr.V.K.GOYAL GOYAL, SKIN AND GENERAL HOSPITAL, NEAR BUNTY HEALTH CLUB, GIDDARBAHA, MUKTSAR, PUNJAB.


अस्वीकरण (दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय)

 इस लेख की सामग्री व्यावसायिक चिकित्सा सलाह (professional medical advice), निदान (diagnosis) या उपचार (ट्रीटमेंट) के विकल्प के रूप में नहीं है।

  • चिकित्सीय स्थिति के बारे में किसी भी प्रश्न के लिए हमेशा चिकित्सीय (doctor कंसल्टेशन) सलाह लें।

उचित चिकित्सा पर्यवेक्षण (without proper medical supervision) के बिना अपने आप को, अपने बच्चे को, या किसी और का  इलाज करने का प्रयास न करें।


image creditधन्यवाद to www.pixabay.com इतनी प्यारी images के लिए

इसे भी पढ़ें– “टाइफाइड की जांच in हिंदी”

Information Compiled- by Dr. Vishal Goyal

Bachelor in Ayurvedic Medicine and Surgery

Post Graduate in Alternative Medicine MD (AM)

Email ID- [email protected]

Owns Goyal Skin and General Hospital, Giddarbaha, Muktsar, Punjabwriter-

“दाद को जड़ से खत्म करने के सारे उपाय पढने के लिए धन्यवाद…

कृपया इन आर्टिकल्स को भी पढ़े–

१.”कमरदर्द का रामबाण इलाज़ हिन्दी में

२.”कब्ज़ के कारण, लक्षण व् इलाज़ हिन्दी में

३.”लिव 52 टेबलेट के सभी फायदे

४.”बढे हुए sgot तथा sgpt को कम करने के उपाए

सन्दर्भ :

https://www.skinsight.com/skin-conditions/adult/tinea-barbae-ringworm-of-beard- beard ringworm tinea barbae study

https://www.skinsight.com/skin-conditions/adult/tinea-cruris- tinea cruris or jock itch study

https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/athletes-foot/symptoms-causes/syc-20353841Athlete’s foot or tinea pedis study

https://www.skinsight.com/skin-conditions/adult/tinea-versicolor- tinea versicolor study

https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/9568414/ role of fluconazole treating fungal infections

https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/18479501/- role of itraconazole treating fungal infections


1 thought on “दाद को जड़ से खत्म करने के सारे best उपाय- Ringworm Treatment in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

hello
%d bloggers like this: